Blogger द्वारा संचालित.

समर्थक

मेरी ब्लॉग सूची

18 जुलाई 2010 से प्रत्येक पोस्ट में उठाई गई समस्या के समाधान से संबंधित पोस्ट भी प्रकाशित की जाएगी! पहले पूर्व प्रकाशित समस्याओं का समाधान प्रस्तुत किया जाएगा! फिर एक सप्ताह के भीतर ही समस्या और उसके समाधान संबंधी पोस्ट प्रकाशित करने की योजना है! अपरिहार्य कारणवश ऐसा नहीं हो पा रहा है!

चिड़ियाएँ उड़ रहीं गगन में

ये हैं एक चर्चित कविता की लोकप्रिय पंक्तियाँ -

उठो लाल अब आँखें खोलो,
पानी लाई हूँ, मुँह धोलो!

----------------------

चिड़ियाँ
चहक उठीं पेड़ों पर,

बहने लगी हवा अति सुंदर!


और ये हैं एक अपरिचित कविता की कुछ पंक्तियाँ -

चिड़ियाएँ उड़ रहीं गगन में,
अपने पंख पसारे!
उनके पंखों में बसते हैं,

रंग सलोने-प्यारे!


अब हमें पता करना है -

चिड़ियाँ और चिड़ियाएँ में से कौन-सा बहुवचन सही है?
क्या दोनों सही हैं?

दिलीप  – (18 अप्रैल 2010 को 5:35 pm)  

waise kavi ko thoda fer badal karne ki chhoot hoti hai...mere vichar se pehla sahi hai

http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन  – (19 अप्रैल 2010 को 4:42 am)  

"चिड़ियाएँ" शब्द तो कभी नहीं सुना. हाँ, आवश्यकतानुसार चिड़ियाँ या चिड़ियें ज़रूर सुने, पढ़े और बोले हैं. लेकिन हमारे कहने से क्या, कोई सरकारी विद्वान जिसे भी सही ठहरा देगा वही सही हो जाएगा.

Dr. shyam gupta  – (19 अप्रैल 2010 को 9:43 am)  

----चिड़ियाँ सही है, दूसरा अशुद्ध है.

रेखा श्रीवास्तव  – (19 अप्रैल 2010 को 4:03 pm)  

नहीं चिड़ियाँ ही सही है.
मैं आपको बता दूं,
आकारान्त शब्द के कई प्रकार हो सकते हैं.
जिनमें:
आशा - आशा आशाएं आशाओं हो सकता है लेकिन वही चिड़िया में बहुवचन चिड़ियाँ ही होता है. ये स्त्रीलिंग के आकारान्त शब्दों के अलग अलग रूप हैं. अगर आप ईर्ष्या के लिए कहें तो उसका कोई बहुवचन नहीं होता.
अगर मुझे गलत जानकारी हो तो सही बतलाएं.

वन्दना अवस्थी दुबे  – (19 अप्रैल 2010 को 6:15 pm)  

चिड़िया के दो बहुवचन होते हैं, चिड़ियाँ, और चिड़ियों बस. चिड़ियाएँ अशुद्ध शब्द है, जिसे हम देशज शब्द भी कह सकते हैं.
व्याकरण की दृष्टि से ' या' से अंत होने वाली संज्ञाओं को बहुवचन बनाने के लिए अंत में अनुनासिक जोड़ दिया जाता है. यथा-
गुडिया = गुड़ियाँ
चिड़िया = चिड़ियाँ
चुहिया = चुहियाँ
डिबिया = डिबियाँ आदि

रावेंद्रकुमार रवि  – (20 अप्रैल 2010 को 8:35 pm)  

"चिड़िया" का बहुवचन "चिड़ियाँ" होता है, "चिड़ियाएँ" नहीं ।
नियम - जिन स्त्रीलिंग संज्ञाओं के अन्त में '-इया' होता है, उनका अन्त्य '-आ' बहुवचन में अनुनासिक हो जाता है ।
चिड़िया - चिड़ियाँ
बुढ़िया - बुढ़ियाँ
(देखें - "हिन्दी व्याकरण", डॉ॰ ज़ाल्मन दीमशित्स, रादुगा प्रकाशन, मास्को, १९८३; पृष्ठ-८५)

"चिड़ी" का स्वतन्त्र प्रयोग नहीं होता, केवल समास में ही होता है; जैसे - चिड़ीमार । (देखें - "बृहत् हिन्दी कोश", सम्पादक - कालिका प्रसाद, प्रकाशक - ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी)

"चिड़ियाएँ" का प्रयोग देवकीनन्दन खत्री के किसी उपन्यास में देखा था । आजकल अन्तरजाल पर तो इसका प्रयोग कई लोगों द्वारा किया हुआ दिखाई पड़ता है ।

---नारायण प्रसाद
(मेल द्वारा प्राप्त संदेश)

अक्षिता (पाखी)  – (20 अप्रैल 2010 को 10:39 pm)  

चिड़ियाँ सही है.

__________
'पाखी की दुनिया' में इस बार माउन्ट हैरियट की सैर करना न भूलें !!

माधव  – (5 मई 2010 को 6:31 pm)  

बहुत अच्छा लगा ये ब्लॉग

एक टिप्पणी भेजें

सभी साथियों से अनुरोध है कि यदि आपकी मातृभाषा हिंदी है,
तो यहाँ अपनी टिप्पणी भी हिंदी (देवनागरी लिपि)
में ही प्रकाशित करने की कृपा कीजिए!
टिप्पणी पोस्ट करने से पहले
ई-मेल के द्वारा सदस्यता ले लिया कीजिए,
ताकि आपकी टिप्पणी प्रकाशित होने के बाद में
यहाँ होनेवाली चर्चा का पता भी आपको चलता रहे
और आप बराबर चर्चा में शामिल रह सकें!

Related Posts with Thumbnails

"हिंदी का शृंगार" पर प्रकाशित रचनाएँ ई-मेल द्वारा पढ़ने के लिए

नीचे बने आयत में अपना ई-मेल पता भरकर

Subscribe पर क्लिक् कीजिए

प्रेषक : FeedBurner

नवगीत की पाठशाला पर पढ़िए मेरे ताज़ा नवगीत : बौराए हैं बाज फिरंगी और कर पाएँगे नहीं नाज़

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

सप्तरंगी प्रेम पर पढ़िए मेरे ताज़ा नवगीत : मेरा हृदय अलंकृत और ओ, मेरे मनमीत!

मेरी रचनाओं का शृंगार : रावेंद्रकुमार रवि

सृजनगाथा में प्रकाशित रावेंद्रकुमार रवि की लघुकथाएँ

१. भविष्य दर्शन

२. शेर और सियार

३. तोते ४. लेकिन इस बार

५. आदर्श

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP